SDM Full Form In Hindi | SDM Full Form

इस पोस्ट में SDM Full Form In Hindi के बारे में हम आपको जानकारी देंगे। आप मे से बहुत से लोग DM, SDM, या IAS जैसी government jobs करना चाहते है ! और देश की सेवा करना चाहते है। तथा इन पदों को पाने के लिए वो काफी मेहनत भी करते है। और खूब पढ़ाई करते है। लेकिन इन पदों पर selection उनका ही हो पाता है ! जो कि इन पदों के काबिल होते है। और entrance exam को pass कर पाते है।

आज के समय मे देखा जाए तो SDM का post प्राप्त कर पाना बिल्कुल भी आसान नही है और यह पद जितना ऊँचा है ! उतने ही इसके साथ जिम्मेदारियां भी जुड़ी हुई है। और अपने राज्य या area में सभी चीज़ों का ध्यान रखना और सभी चीज़ों को शुचारु रूप से गतिमान रखना भी इनका ही काम होता है। इसके साथ यदि किसी तरह का विवाद होता है ! जमीन, सड़क को लेकर, या अन्य छोटे विवाद होते है तो उन पक्षों के बीच कोई बार सुलाह करवाना भी SDM का ही काम होता है।
तो चलिए विस्तार से जानते है कि SDM Full Form In Hindi क्या है ! और आप SDM कैसे बन सकते है। तथा एक SDM पद पर बैठे अधिकारी की जिम्मेदारियाँ क्या होती है।

SDM का full form क्या है। SDM Full Form In Hindi

SDM FULL FORM in hindi उप प्रभागीय न्यायधीस होता है। तथा english भाषा मे इसका अनुवाद Sub Divisional Magistrate होता है।

SDM कौन होता है।

SDM (Sub Divisional Magistrate) एक बहुत ही बड़ा और जिम्मेदारी वाला सरकारी पद होता है। जिसका एक जिले में होने वाले बहुत से सरकारी अधिकारियों और कामो पर नियंत्रण होता है। तथा SDM के द्वारा उनको वक़्त वक़्त पर निर्देष भी दिए जाते है। कि क्या काम जरूरी है ! जिसको जल्दी पूरा करना है। SDM की शक्तियां भी लगभग DM अधिकारी के बराबर ही होती, केवल कुछ चीज़ों को छोड़ कर। और सभी सरकारी शुभिधाएँ भी DM के बराबर ही SDM अधिकारी को भी मिलती है।

SDM Full Form In Hindi | SDM Full Form
इसके साथ ही SDM की salary के भी काफी अच्छी होती है। इन्ही सब कारणों की वजह से बहुत से नौजवान अपना college complete करने के बाद सरकारी परीक्षाओं की तैयारी करने लगते है। ताकि वो भी ऐसे ही किसी पद की नौकरी प्राप्त कर सके। और अपने जीवन मे एक सफल इंसान बन सके।

SDM के कार्य क्या होते है।

SDM के पास अपने क्षेत्र या जिले में आने वाले कई अधिकार होते है ! जैसे कि उस इलाके के सभी तरह के जमीनों का लेखा जोखा SDM के under ही होता है ! और तहसील और उन में होने वाले कार्य पर भी SDM का नियंत्रण होता है। इसके साथ ही driving license, birth certificate बनाना, विवाह का पंजीकरण करना ! तथा और भी अन्य प्रकार के पंजीकरण करना, नवीकरण करना, राज्यो में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव के लिए सदस्यों का चुनाव करवाना, कई बार किसी प्रकार के जमीनी विवादो को सुलझाना, आदि भी SDM का ही कार्य होता है।

SDM बनने के लिए आप कितने पढ़े लिखे होने चाहिए।

यदि आप SDM के पद के लिए परीक्षा को देना चाहते है ! तो उसके लिए आपके पास कम से कम किसी भी विषय मे graduation की डिग्री होनी चाहिए ! तभी आप SDM के पद पर नियुक्त किये जा सकते है। अन्यथा आप इस पद के लिए qualify नही कर पाएंगे।

SDM कैसे बने।

SDM बनने के लिए आपको बहुत पढ़ना पड़ेगा। और कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। तभी आप SDM बन सकते है। क्योकि ऐसे सभी सरकारी पदों के लिए बहुत से बच्चे होते है ! जिनको आपको पीछे छोड़ना होता है।
तो यदि आप वाक़ई में SDM के लिए परीक्षा देने चाहते है ! तो आपको sate द्वारा आयोजित किया जाने वाला PCS का exam देना होगा और उसमें अच्छे अंको के साथ पास होना होगा। लेकिन यही आप आपका काम खत्म नही होता है। बल्कि इस परिक्षा को तीन भागों में बंटा गया है। जोकि

  • प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary examination)
  • मुख्य परीक्षा (Main examination)
  • इंटरव्यू (Interview)

शामिल है। और जब आप इन तीनो ही बाधाओं को पार कर अपनी परीक्षा में सफल हो जायेगे। तब आपको इस पद के लिए नियुक्त किया जाएगा।
हालांकि एसडीएम के पद को पाने के लिए एक और मार्ग है। जो कि UPSC CSE से होकर गुजरता है। अगर आप एसडीएम बनाना चाहते है ! तो आप UPSC परीक्षा को पास करके भी SDM बन सकते है। लेकिन यह परीक्षा काफी कठिन होता है। और इसमे आपको पास होने के लिए खूब पढ़ना पड़ेगा ! और मेहनत करनी पड़ेगी। तभी जाकर आप इस परीक्षा में पास हो पाएंगे। क्योकि UPSC के लिए बहुत से बेहद होशियार छात्र तैयारी कर रहे होते है। आप साल 2021 को ही ले लीजिए, इस साल एक IIT पास छात्र ने UPSC की परीक्षा में top किया है। तो आप समझ सकते है कि आप किन लोगों के साथ compete कर रहे है।

SDM बनने के लिए Age Limit क्या है।

अगर आप एसडीएम अधिकारी बनाना चाहते है या बनाने का सपना देखते है तो आपको इसके आयु सीमा की भी जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि एक उम्र तक ही आप इस पद के लिए भर्ती हो सकते है तथा उस उम्र के बाद आपको इस पद पर भर्ती नही किया जाएगा।
यदि आप general category से है तो उनके लिए आयु सीमा केवल 21 से 40 वर्ष तक ही है। वही यदि आप पिछड़े वर्ग से तालुक रखते है तो इसके लिए आयु सीमा 21 से 45 वर्ष तक की है। वही अनुसूचित जाति और जन जन जाती के लिए भी 21 से 25 वर्ष की ही है।

इस बताई गई उम्र सीमा के बाद आप एसडीएम पद के लिए परीक्षा नही दे सकते है ! ना ही आपको इस पद पर न्युक्त किया जाएगा।
SDM का वेतन कितना होता है। और SDM अधिकरी को सरकार की तरफ से दी जाने वाली शुभिधाएँ।

SDM Full Form In Hindi | SDM Full Form

अगर हम SDM के मासिक वेतन के बारे में बात करे ! तो इनका वेतन काफी अच्छा होता वो भी जिसने तुरंत join किया है। और यदि आप इस पद पर काफी समय से है ! तो आपका वेतन शुरुआती समय के वेतन का 2 से 3 गुना होगा।
तो यदि आपको शुरुआती वेतन SDM का बताऊँ ! तो ये 30 से 50 हज़ार के बीच ही होता है। वही यदि SDM के पद पर बैठा अधिकारी काफी समय से government job कर रहा है ! तो उसका वेतन 1 लाख के करीब या उससे ज्यादा भी हो सकता है। इसके साथ ही इनको साल में एक बार बोनोस और यदि ये over time work करते है ! तो उसका खर्च भी इनको मिलता है।

इसके इलावा यदि किसी सरकारी काम से एसडीएम को कभी दूसरी जगह जाना पड़ा तो उसका खर्च भी government ही देती है ! और SDM अधिकारी को एक government car भी मिलती है तथा उसके साथ एक driver भी दिया जाता है। इतना ही नही बल्कि सरकार की तरफ से रहने के लिए सरकारी आवास, घर मे काम करने के लिए सरकारी ख़र्चे पर नौकर, और personal गार्ड भी दिया जाता है। इसके इलावा इनके सरकारी नंबर का mobile बिल, सरकारी आवास का पानी और बिजली का बिल भी सरकार के द्वारा ही दिया जाता है। कुल मिलाकर देखा जाए तो SDM का अधिकतर ख़र्चा सरकार ही उठाती है।

Conclusion

इस पोस्ट के माध्यम से आप ने जाना कि ! SDM Full Form In Hindi। और SDM कैसा बना जा सकता है। तथा उसके लिए आपको किस तरह की परीक्षा में उत्तीर्ण होना होगा।
एसडीएम का काम कोई छोटा मोटा काम नही होता है। आज के समय देखा जाए, तो ऐसे बहुत से सरकारी काम है ! जो कि आधे में ही लटके हुए है ! या फिर सरकारी कर्मचारियों ने उनको खराब ढंग से किया होता है। ऐसे में एसडीएम की यहाँ जिम्मेदारी बनती है ! कि वो उन जगहों पर जाकर inspection करे ! और जो खामियां हो या तो उनको ठीक करवाएं या फिर उससे जुड़े कर्मचारियों के खिलाफ action ले। ताकि वो दोबारा सरकारी संपत्ति को waste न करे।

इसके इलावा लोगो के द्वारा किये गए !  complaints को सुनना और उनकी समस्या का समाधान करना भी इसी अधिकारी की जिम्मेदारी होती है। अगर हम कुल मिलाकर कहे तो, इस पद पर बैठे अधिकारी का काम इसके दिए गए area में सभी चीज़ों को सुचारू रखना और उनको गतिमान बनाए रखना इसी की जिम्मेदारी होती है।

इसे भी पढ़िए – IAS Full फॉर्म हिन्दी में

उम्मीद करते है कि ये जानकारी आपके काम आयी होगी ! और अपने इस पोस्ट से कुछ सीखा होगा। और हाँ, आप इस post को अपने दोस्तों के साथ भी share कीजिए ! ताकि उनको भी SDM Full Form In Hindi क्या होता है ! और SDM कौन होता के बारे में जानकारी हो सके।

Leave a Reply

%d bloggers like this: